राष्ट्रपिता को नमन-अनुज कुमार वर्मा

राष्ट्रपिता को नमन प्रभु नाम का तू प्रतिमूर्ति एकता और भाईचारा का मूर्ति। स्वच्छता को तूने अपनाया, सुन्दर अपना राष्ट्र बनाया। सत्य के पथ पर चलना सिखलाया, अहिंसा अपनाकर जीना…

Spread the love

बचपन-प्रीति कुमारी

बचपन कभी-कभी तन्हाइयों में, याद आतीं बचपन की बातें। भरा-पूरा परिवार हमारा, पल-पल मन को था महकाता। काश कि बचपन लौट के आता।। दादा-दादी का वह आँगन, लगता था कितना…

Spread the love

प्यारे बापू-आँचल शरण

प्यारे बापू बापू तेरे जन्म दिवस पर है तुझको शत-शत नमन याद करता है भारत वर्ष प्रेम पुष्प सब करे अर्पण। सत्य अहिंसा की राहों पर तुमने है चलना सिखलाया…

Spread the love

प्यारे बापू-मधुमिता

प्यारे बापू हम बच्चों के प्यारे बापू तेरी महिमा का कैसे करूं बखान सारा विश्व करता तेरा जय गान अहिंसा के पुजारी तुम बन गए बापू महान अंग्रेजों की दासता…

Spread the love

जीवन युद्ध है आराम नहीं-प्रियंका कुमारी

जीवन युद्ध है आराम नहीं  जीवन युद्ध है इसे समझ तू आराम नहीं, जीवन के हर मोड़ पर, कहीं शुरू तो कहीं छोड़ पर, कर्तव्यों के शोर पर, तुझे योद्धा…

Spread the love

टीचर्स ऑफ बिहार के पद्यपंकज

Vijay Bahdur Singh

टीचर्स ऑफ बिहार के पद्यपंकज, गद्यगुंजन और ब्लॉग टीम लीडर विजय बहादुर सिंह आपका स्वागत करता है। पद्यपंकज, गद्यगुंजन के रचना का सत्यापन श्री विजय बहादुर सिंह जी के द्वारा की जाती है।


धन्यवाद

SHARE WITH US

Recent Post