चंदा मामा-बबीता चौरसिया-पद्यपंकज

चंदा मामा-बबीता चौरसिया

Babita

Babita

चंदा मामा

चंदा मामा प्यारे हो
मेरे मन को भाते हो
रंग बिरंगे सपने लेकर
रोज रात में आते हो।

कभी होते हो पूरे गोल
कभी गायब हो जाते हो
क्यों रहते हो इतने दूर
गैरों के जैसा मजबूर।

मेरे घर आ जाओ ना
संग शीतलता लाओ ना
अपने निर्मल रश्मि में
हमें भी नहलाओ ना।

मंद मंद मुस्काते हो
पास क्यों नहीं आते हो
अब तुझसे मैं रूठ जाऊंगी
न मामा कहके बुलाऊंगी।

बबीता चौरसिया
शिक्षिका
मधुबनी बिहार

Leave a Reply

SHARE WITH US

Share Your Story on
info@teachersofbihar.org

Recent Post

%d bloggers like this: