जाने कहां गए वो दिन -जैनेन्द्र प्रसाद रवि-पद्यपंकज

जाने कहां गए वो दिन -जैनेन्द्र प्रसाद रवि

Jainendra

टॉफी पा के इठलाना,
पल में मचल जाना,
शैशव की बीती बातें-
हमें याद आते हैं।

बांहों में लिपट कर,
आंचल में छिप जाना,
मां की सुनाई लोरी-
नहीं भूल पाते हैं।

बहन – भाई के बीच,
रोज दिन नोकझोंक,
अपनी ही शरारतें-
सोच सकुचाते हैं ।

चाहता हूं बचपन,
एक बार फिर आए,
बच्चों संग बच्चा जब-
हम बन जाते हैं।

जैनेन्द्र प्रसाद रवि’
म.वि. बख्तियारपुर, पटना

Leave a Reply

SHARE WITH US

Share Your Story on
info@teachersofbihar.org

Recent Post

%d bloggers like this: