बचपन -भवानंद सिंह-पद्यपंकज

बचपन -भवानंद सिंह

Bhawanand Singh

बच्चे होते हैं नादान
रहती चेहरे पर मुस्कान,
तुरंत लड़ाई तुरंत ही मेल
बचपन का यही है खेल ।

बच्चे के मन होते चंचल
चंचलता इसकी पहचान,
बन नटखट वो चलते फिरते
करते रहते हैं परेशान ।

अपनी जिद पर अड़ा रहता है
जिद पूरी हो डटा रहता है,
मान मन्नोवल का यह खेल
चलती रहती है यह रेल ।

मम्मी के दुलारे हैं
पापा के भी प्यारे हैं,
उनकी बातों का बुरा न मानो
सबके आँखों के तारे हैं ।

छोड़ो अपना ये नटखट पन
समझो बात करो कुछ काम,
उम्र हो गई अब पढ़ने की
करो पढ़ाई होगा नाम ।

विद्यालय अब जाने लगे हैं
समझ गया वो अपना काम,
बचपन का यह खेल निराला
परिवार का वह राजदुलारा ।

भवानंद सिंह
UHS मधुलता
अररिया बिहार

5 thoughts on “बचपन -भवानंद सिंह

  1. बच्चों के मनोभावों को उद्धृत करती अत्यंत ही सुंदर रचना। हार्दिक शुभकामनाएं 🌹🌹

Leave a Reply

SHARE WITH US

Share Your Story on
info@teachersofbihar.org

Recent Post

%d bloggers like this: