Bhakti-पद्यपंकज

राष्ट्रप्रेम की भावना-प्रियंका कुमारी

राष्ट्रप्रेम की भावना राष्ट्रप्रेम की भावना केवल युद्ध भूमि में ही नहीं होनी चाहिए, इसकी शुरुआत हमें अपने नेक इरादों से करनी चाहिए, ना भेदभाव हो, ना कोई जाति-धर्म का…

रामचरित-राजेश कुमार सिंह

चौदह कलाओं वाले सीतापति का रामचरित मेरे आराध्य देव मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम हैं। रघुकुल शिरोमणि निश्छल और निष्काम हैं।। पिता दशरथ और माता कौशल्या के दुलारे हैं। लक्ष्मण, भरत, शत्रुघ्न…

श्री गुरु महिमा-शुकदेव पाठक

श्री गुरु महिमा गुरु आत्मा, गुरु परमात्मा गुरु है ओम्, गुरु ही व्योम गुरु निवारण, गुरु जगतारण गुरु का सम्मान करो, अपना तुम उद्धार करो। गुरु हर्षावत, गुरु दर्शावत गुरु…

धन्यवाद करूँ प्रभु तेरा-मधुमिता

  धन्यवाद करूँ प्रभु तेरा  परमपिता परमात्मा कहे ये मेरी आत्मा धन्यवाद करूँ प्रभु तेरा। मन में ज्योत जगाया, मुझको गले से लगाया। सच की राह दिखाया, जीवन जीने की…

SHARE WITH US

Share Your Story on
info@teachersofbihar.org

Recent Post