Bhakti-पद्यपंकज

ज्ञान दायिनी – अशोक कुमार

ज्ञान दायिनी हे ज्ञान दायिनी, अबोध बालक पुकारे। बसंत पंचमी को आ जा, हमें दर्शन करा जा।। मुझमें विद्या का ज्ञान भरदें, मेरा काया कल्प करदे। अपनी कृपा की ज्योती,…

सरस्वती वन्दना – रीना कुमारी

सरस्वती वन्दना माँ शारदे, माँ शारदे तुम हो भवानी वर दे। माँ शारदे। मैं बालक तू मेरी माता बड़ा गहरा है माँ तेरा मेरा नाता। मुझमें विद्या का ज्ञान भरदे।…

लोक आस्था का महापर्व छठ-ब्यूटी कुमारी

लोक आस्था का महापर्व छठ  छठ अति पावन आस्था का पर्व अलौकिक सूर्योपासना का है अद्भुत पर्व सात्विक भाव निष्ठा से पूरित चार दिनों का अनुष्ठान यह छठ व्रतियों की…

छठ पर्व-विवेक कुमार

छठ पर्व आस्था और विश्वास का, सबसे अनूठा पर्व, कार्तिक शुक्ल पक्ष की षष्ठी को आता, यह महापर्व, षष्ठी तिथि के कारण इसे, कहा जाता छठ, होता है गर्व, मनोवांछित…

मां शारदे-नूतन कुमारी

माँ शारदे माता तुम्हारे चरणों की दासी हूँ दातिये। तेरे स्वरूप को मेरी अँखियन प्यासी है दातिये! मुझे वर दे, मुझको स्वर दे, ओ मां शारदे -2 माँ तुझको पुकारूँ…

पधारो हे वीर महान-विवेक कुमार

पधारो हे वीर महान भूमंडल पर अवतरित हुआ था, एक अद्भुत इंसान महान, जिनका न था कोई ठिकान, गुणों के जो थे खान, त्याग तपस्या संयम की प्रतिमूर्ति, सोच जिनकी…

गोवर्धन गिरधारी-आंचल शरण

गोवर्धन गिरधारी जय गोवर्धन गिरधारी, ओ बांसीवाले बनवारी, श्याम सलोना मुकुट धारी! तुझ पर बलिहारी जाऊं री।। ओ नटखट बाल बिहारी, मुख माखन पग पैजनियाधारी, तीनों लोक के करतारी! तुझ…

स्तुति-कुमकुम कुमारी ‘काव्याकृति’

नवदुर्गा पूजा मेरी स्वीकारो माता, जग-जननी जगदंबे माता। नवरूप धर मेरी प्यारी मैय्या, घर में मेरे पधारो माता। पूजा मेरी…………………. प्रथम रूप शैलपुत्री माता, हृदय बीच समाओ माता। अपनी अनुपम…

SHARE WITH US

Share Your Story on
info@teachersofbihar.org

Recent Post