बालगीत-पद्यपंकज

चहक -अशोक कुमार

चहक उठे सब बच्चे, जैसे चिड़िया चहकती। नित्य विद्यालय जाना, जैसे मन मचलता।। खेल खेल में शिक्षा, हमें आनंदित करे। विद्यालय जाने के लिए, हमें प्रेरित करे।। भयमुक्त वातावरण में,…

बकरी का बच्चा-नीतू रानी

बकरी का बच्चा नदी किनारे बकरी का बच्चा चरने निकला घास, अगल -बगल से आ रही थी कुछ कुत्तों की आवाज। आवाज सुनकर बकरी का बच्चा दौड़कर गया मम्मी के…

पीहु रानी – नीतू रानी

पीहु रानी मेरी प्यारी पीहु रानी, मीठी है तुम्हारी वाणी। चुपके से मेरे रुम में घुसकर, मेकअप का सब‌ समान चुराती। कभी आॅ॑खों में काजल लगाती, कभी होंठों में लिपीस्टिक…

बालमन-प्रियंका दुबे

बालमन कल्पनाओं के अंबुज में गोते लगाता बालमन, भरना चाहता है सदैव उन्मुक्तता की उड़ान, अंगीकार कर लेना चाहता है स्वच्छंदता की अनंत असीम विस्तार। कौतुहल से भरी शिशु मन…

आइस पाईस-मनोज कुमार दुबे

  आइस पाईस आइस पाईस चोर कहाँ  पकड़ो भाई छुपा वहाँ सोनू मोनू रानी प्यारी इस बार अच्छी तैयारी मोटा गोलू छिपा कहा कैसे ढूंढे यहा वहाँ नैना तुमको आइस…

SHARE WITH US

Share Your Story on
info@teachersofbihar.org

Recent Post