Veer-पद्यपंकज

राष्ट्रकवि सोहनलाल द्विवेदी – सुधीर कुमार

सोहनलाल द्विवेदी की मैं गाथा तुम्हें सुनाता हूँ । इनका जीवन और कृति से परिचय तुम्हें कराता हूँ द्विवेदी जी का हिंदी में है बहुत उच्च स्थान । राष्ट्र प्रेम…

राष्ट्र कवि दिनकर – मनु कुमारी

साहित्य सरोवर में, खिला अद्भुत कमल! रामधारी सिंह दिनकर। बेगुसराय के गांव सिमरिया, जहां बसे मनरूप देवी और रवि भैया, जिनके पुत्र हुए तेजस्वी दिनकर। मानवीय चेतना के उन्नायक, राष्ट्रीय…

वीर बन, युद्ध कर-मधु कुमारी

वीर बन, युद्ध कर ——————— स्थिति परिस्थिति कितने भी हो प्रतिकूल तुम अपनी आत्म शक्ति पहचान, मत भूल चाहे राह में हो अनेकों…….. शूल ही शूल तू युद्ध कर, उड़ा…

मैं हूँ नारी- मधु कुमारी

मैं हूँ नारी ——— मैं हूँ नारी एक धधकती सी चिंगारी प्रगति पथ की हूँ अधिकारी सृष्टि की सुंदर कृति हमारी मैं जग जननी,मैं पालनहारी मैं हूँ नारी हमने अपनी…

है धन्य हमारी तपोभूमि आर्यवर्त-एम० एस० हुसैन “कैमूरी”

है धन्य हमारी तपोभूमि आर्यावर्त नमन है इस पाक सरज़मीन को जिसने हमको ये अभिमान दिया करते रहते हैं जो देश की रक्षा ऐसा सैनिक वीर बलवान दिया। महिलाओं पर…

वीर बांकुड़ा कुंवर सिंह-अपराजिता कुमारी

वीर बांकुड़ा कुंवर सिंह आज बिहार के वीर बांकुड़ा का विजयोत्सव सब मिलकर मनाते हैं, वीर बांकुड़ा केसरी कुंवर सिंह की गर्जना को फिर से याद करते हैं। बांध मुरैठा…

वीर-अवनीश कुमार

वीर वीर तू आगे बढ़ शत्रु पर वार कर शत्रु छद्मरूप धरे बहुतेरे आलस्य, निद्रा, अहम, वहम छल, द्वेष, पाखंड, झूठ क्रोध, ईर्ष्या, अत्याचार नाम है तेरे इनको तू खुद…

SHARE WITH US

Share Your Story on
info@teachersofbihar.org

Recent Post