पद्यपंकजTeachers of Bihar- The Change Makers

मनहरण घनाक्षरी-जैनेन्द्र प्रसाद ‘रवि’

पक्षियों ने पंख खोला,उड़ने से डाल डोला, सुगंधित मंद-मंद , बहता पवन है। सरसों के फूल खिले, खेत दिखे पीले-पीले, चारों ओर हरियाली, खिलता चमन है। दिन देखो ढल गया,…

मनहरण घनाक्षरी:-“भोर”(खण्ड-1)- एस.के.पूनम

मनहरण घनाक्षरी:-“भोर”(खण्ड-1) भोर ने बुलाया जब,रवि दौड़ा आया तब, मिटा अंधकार सब,बुलाने में हित है। खाट छोड़ दिया तब,उजियारा हुआ जब, नयनों में ज्योत अब,सुबह की जीत है। पत्तियाँ चमकी…

SHARE WITH US

Share Your Story on
info@teachersofbihar.org

Recent Post