बेटियाँ जरूरी होती हैं – रूचिका

धरा की खूबसूरती और बढ़ाने के लिए, रिश्तों को प्रेम रंग में सजाने के लिए, बेटी,बहन,पत्नी,प्रेमिका मॉं ,फुआ, रिश्तों के अनेक रूपों में भावों को सदा ही दिखाने के लिए,…

हिंदी मेरी जान-विवेक कुमार

अभिव्यक्ति का माध्यम है हिन्दी, दिल में प्रेम जगाती हिंदी, जीवन सरस बनाती हिंदी, हिंदी से ही है हमारी शान, हिंदी ही हमारा अभिमान, हिंदी मेरी जान, हम इसपर कुर्बान।…

हृदयवासिनी-गौतम भारती

हृदयवासिनी सजग नयन की नूर लिये सीरत सहज प्रवासिनी। आ पड़ी अधिवास को अक्षुण्ण अधिकार, प्रकाशिनि।। चमक उठी वो सूरत जो वर्षों पड़ी थी मौन। चेहरे की खुशियां देखो दुःख…

हिन्दी-जैनेन्द्र प्रसाद रवि’

हिन्दी हिन्दी भारत की है मातृभाषा, फूले-फले यह है अभिलाषा। जन गण मन की शान हिन्दी, भारत की पहचान है हिन्दी। युगों युगों से जुंवा पर सबकी, बनीं हुई जन…

जाओ न तुम दिसंबर-डॉ. अनुपमा श्रीवास्तवा

जाओ न तुम दिसंबर यूं न तुम जाओ दिसंबर, उदास है धरती और अंबर। मौन हैं चारों दिशाएं कांपती चल रही हवाएं। कोहरे का चादर ओढ़कर, उम्मीद सबका तोड़कर। मांगों…

बचपन-रूचिका राय

बचपन बचपन का वो मासूम जमाना, माँ पापा का गोद था ठिकाना, नही फिकर नही कोई चिंता, हर गम से दिल था अनजाना। वो बात बेबात रूठना मनाना, शोरकर घर…

चाचा नेहरू-विवेक कुमार

चाचा नेहरू निश्छल निर्मल स्वर्ण धरा पर, कोमल संग मुस्कान लिए, कच्ची मिट्टी सा मन है जिसका, भविष्य जिसके भाल है, नव निर्माण का जो आधार, जिसके मन भांप बजाते…

बाल दिवस-ब्यूटी कुमारी

बाल दिवस तिथि नवंबर चौदह आता है हर साल चाचा नेहरू का जन्मदिन कहलाता दिवस बाल। दिल के भोले मृदु मुस्कान कोमल पंखुड़ियों वाला भाता उनको फूल गुलाब। करते थे…

SHARE WITH US

Share Your Story on
info@teachersofbihar.org

Recent Post