मुनिया-निधि चौधरी

मुनिया

पढ़ेगी मुनिया बढ़ेगी मुनिया,
जग को रौशन करेगी मुनिया।

घरों की है लक्ष्मी, सहेजो सँवारो,
सफलता की सीढ़ी चढ़ेगी मुनिया।

ज़रा-सी उड़ानें भरे जो ज़माना,
परिंदों-सी फिर तो उड़ेगी मुनिया।

मिले जो इसे स्लेट हाथों में ग़र तो,
कलियों-सी फिर तो खिलेगी मुनिया।

उजाला करे इल्म की रोशनी से,
ससुराल में ना जलेगी मुनिया।

कराटे सिखा दो करे आत्मरक्षा,
सड़क पर कभी ना लुटेगी मुनिया।

छुड़ाकर कलम तुम मेहंदी न रचना,
पिता का सहारा बनेगी मुनिया।

निधि चौधरी
प्रार्थमिक विद्यालय सुहागी
किशनगंज बिहार

Leave a Reply

SHARE WITH US

Share Your Story on
info@teachersofbihar.org

Recent Post

%d