लोक आस्था का महापर्व छठ-ब्यूटी कुमारी-पद्यपंकज

लोक आस्था का महापर्व छठ-ब्यूटी कुमारी

Beauty

Beauty

लोक आस्था का महापर्व छठ 

छठ अति पावन आस्था का
पर्व अलौकिक
सूर्योपासना का है अद्भुत पर्व
सात्विक भाव निष्ठा से पूरित
चार दिनों का अनुष्ठान यह
छठ व्रतियों की साधना है।
नहाए खाए से होता आरंभ
पारण से व्रत का निस्तारण
सात घोड़ों वाली आ रही
रवि की सवारी तेजपुंज से
रथ सजा है, लालिमा से
पथ सजा है।
आदि अंत दोनों दिनेश की
प्रथम अर्ध रवि अस्ताचलगामी की
द्वितीय अर्ध अरुण उदयाचल स्वामी।
फल पकवान से सूप सजा है
नहर नदी तालाब किनारे
अद्भुत छटा वेष बहुरंगी
सिर डलिया चुनरी सतरंगी।
छठ गीतों का समा निराला
धार्मिक परंपराओं का प्रतीक
बिहार का है यह प्रमुख पर्व
सूर्य देव को करते वंदन
लोक आस्था के महापर्व में
भेदभाव सब मिट जाते हैं
ऊंच-नीच और छुआ-छूत से
सभी ऊपर उठ जाते हैं।
एक घाट है, एक बाट है
एक देवता भक्त अनेक
यह प्रकृति की पूजा
स्वच्छता का महोत्सव
छठ पर्व में होता लोगों का संगम
मिल-जुलकर सब घाट सजाते
घाटों का है अनुपम दृश्य
समस्त शक्ति ऊर्जा का स्रोत
सामाजिक सौहार्द से ओतप्रोत
छठ व्रती करते कठिन तपस्या
शुद्धता सुचिता और सादगी
का यह पर्व अति पावन है।

ब्यूटी कुमारी
मध्य विद्यालय मराँची
बछवाड़ा, बेगूसराय

Spread the love

Leave a Reply

SHARE WITH US

Share Your Story on
info@teachersofbihar.org

Recent Post

%d bloggers like this: