नारी शक्ति है शक्ति की भरमार है -एम० एस० हुसैन

M S Husain

नारी शक्ति है शक्ति की भरमार है

नारी शक्ति है शक्ति की भरमार है
नारी तो रुपों की खूद अवतार है
नारी को जहां समझती है अबला
जिसने संभाली सृष्टि की रफ्तार है

एक वंश को सृजित करने के लिए
झेला उसने हमारी अनेकों मार है
हर बाधाओं को काटकर वह फिर
नए संघर्षों के लिए सदैव तैयार है

नारी से ही बना हमारा आज,कल
इस जगत की अदम्य सार है नारी
मुसीबतों का करे सामना डटकर
ऐसी एकलौती अभेध ढाल है नारी

कभी दूर्गा कभी काली कभी तू मां,बहनें
बनकर शक्ति तू इस जग में आई है नारी
सदा ही तेरा रूप अलग है एक दूजे से
इस जगत में कितने रूप लाई है नारी

एम० एस० हुसैन “कैमूरी”
उत्क्रमित मध्य विद्यालय
छोटका कटरा
मोहनियां कैमूर बिहार

Leave a Reply

SHARE WITH US

Share Your Story on
info@teachersofbihar.org

Recent Post

%d