होली का त्योहार-नीतू रानी

Nitu

होली का त्योहार

होली है हिन्दुओं का त्योहार
लोग लगाते हैं एक-दूसरे के गालों में गुलाल,
खाते हैं सब पुआ और खीर
गाते हैं जोगीरा सारा रा रा।

सभी जानते हिरण्यकश्यप का नाम
था वह राक्षस अभिमानी शैतान,
सबको कहता मुझको पूजो
क्योंकि मैं हूँ तुम्हारा भगवान।

हिरण्यकश्यप के डर से थर-थर काँपता था दरबार
उसके पुत्र का नाम था विष्णु भक्त प्रह्लाद,
जिसने नहीं मानी अपने पिता की बात
कहा प्रह्लाद आप मेरे भगवान नहीं हो सकते
सिर्फ आप हैं मेरे बाप।

हिरण्यकश्यप ने जैसे सुनी प्रह्लाद की बात
उसने कहा तेरी ये औकात,
जिसने -जिन्हौंने काटी है मेरी बात
वो इस संसार को छोड़कर चले जाते हैं दूसरे संसार।

हिरण्यकश्यप की थी एक होलिका बहन
जिसको आग में नहीं जलने का मिला था वरदान,
बोला प्रह्लाद को गोदी में लेकर तुम चिता बैठ जाना
तुम नहीं जलोगी बहन जलेगा मेरा प्रह्लाद संतान।

खुशी-खुशी बैठ गई होलिका गोदी में लेकर प्रह्लाद
चारों तरफ से लगा दी गई बने हुए चिते में आग,
होलिका ने की ,दिए हुए ईश्वर के वरदान की अवेहलना
इसीलिए प्रह्लाद नहीं जलकर
होलिका हीं जलकर हो गई राख।
उसी दिन से हम मनाते हैं होली का त्योहार
मिटाकर जाति-छुआछूत भेदभाव और अहंकार,
हम सभी होली मनाते हैं एकसाथ और माता-पिता गुरुजनों से लेते हैं आशीर्वाद।✍️
********

नाम -नीतू रानी
स्कूल का नाम-म०वि०सुरीगाॅ॑व
प्रखंड -बायसी जिला-पूर्णियाॅ॑ बिहार।

Leave a Reply

SHARE WITH US

Share Your Story on
info@teachersofbihar.org

Recent Post

%d