समावेशी शिक्षा-अवनीश कुमार

समावेशी शिक्षा

समावेशी शिक्षा की संकल्पना
दिव्यांगजन अधिकार कानून है अपना

समावेशी शिक्षा की है अवधारणा
सरल, सरस, समरस शिक्षा प्राप्त हो अपना

समानता, मधुरता का पाठ पढ़ाता
नई दृष्टि नई सोच विकसित करता

यह अधिकार नहीं है कोई कोरी कल्पना
दिव्यांगजन अधिकार बच्चों को विशिष्ट बनाता

विशिष्ट शिक्षा विशेष शिक्षकों से है मिलता
जिससे जीवन जीना सरल हो जाता

समावेशी शिक्षा की संकल्पना
दिव्यांगजन अधिकार कानून है अपना

समावेशी शिक्षा मिलने से दूरियाँ है मिट रही
दिव्यांगजन अधिकार कानून नए कलेवर में प्रस्तुत हो रही

समावेशी शिक्षा पाट रही है खाईंया
जिससे छात्रों में बढ़ रही नजदीकियां
अब न इस बात का गम होगा
मैं अलग हूँ इस बात का मर्म होगा

कक्षाएं सुसज्जित हो रही
सुगम्य पहुँच स्थापित हो रही
विशिष्टता की छाप छोड़ रही
भाषा की प्रवीणता बढ़ रही
घोर अंधेरा छंट रहा
दूर फासले हो रहे
समावेशी शिक्षा आने से
शिष्य विशिष्ट सुशिष्ट हो रहे।

प्रतिफल, फलाफल निरन्तर बढ़ रहा
उद्देश्य समावेशी का फलीभूत हो रहा

समावेशी शिक्षा की संकल्पना धरातल पर उतर रही
समावेशी शिक्षा की संकल्पना धरातल पर उतर रही
समावेशी शिक्षा की संकल्पना
दिव्यांगजन अधिकार कानून है अपना

अवनीश कुमार
उत्क्रमित मध्य विद्यालय अजगरवा पूरब
प्रखंड :- पकड़ीदयाल
जिला :- पूर्वी चंपारण (मोतिहारी)

Leave a Reply

SHARE WITH US

Share Your Story on
info@teachersofbihar.org

Recent Post

%d