धुंध के बीच-गिरिधर कुमार

Giridhar

धुंध के बीच

स्याह सा कुछ तैरता हवाओं में
कवि की मुस्कराहट से
बौखला जाता है
अरे मैं कोरोना हूं
तुम बड़े ढीठ इंसान हो
डरते नहीं मुझसे।

धत्त! ये तो हद है
कवि को चेतावनी!
कविता की अनायास हँसी
फलक पर तैरने लगती है
नासमझ बच्चे की
खिलखिलाहट की तरह
अब भी हां अब भी..

मैं कहता हूं
पूछ लो इतिहास से
तूफानों की नियति का
क्या सच रहा है
जीती है मानवता ही
मनुजता ही प्रबल रहा है

और फिर…
और फिर…क्यों मान लें
कि हम चूक गए हैं
कि हमने छोड़ दी है हिम्मत
टकराने की
कि हम अपनी अजेयता को
भय के साये में
नहीं देख पा रहे…!

नहीं, कभी स्वीकृत नहीं हो सकती हार…
जो विजय पथ का राही है
जो विभूषण है, शाश्वत है
हर प्रलय पर भारी है

यही संकल्प, ओज विश्वास
इस धुंध के बीच
दुहराते हैं
हर स्याह रात के बाद
सुबह है
विश्वास मन में लाते हैं…!

गिरिधर कुमार

Leave a Reply

SHARE WITH US

Share Your Story on
info@teachersofbihar.org

Recent Post

%d