Bhakti-पद्यपंकज

कविता-कुमकुम कुमारी

मनहरण घनाक्षरी श्रीकृष्ण 1:- हे कान्हा सुनो पुकार, हम आए तेरे द्वार, विनती करो स्वीकार, भव पार कीजिए। दे दो आशीष अपार, हो प्यारा यह संसार, तुम हो प्राण आधार,हमें…

कबीर दास

कबीर दास जी की जयंती पर याद करते हुए… 🙏     सच से सामना करवाते है।   झूठ – अंधविश्वास को आईना दिखाते है।   कोई चाकू,बंदूक तलवार नही…

माँ दुर्गा-देव कांत मिश्र ‘दिव्य’

माँ दुर्गा दुर्गतिनाशिनी माँ दुर्गा की, होती जय-जयकार। आदिशक्ति जगदंबा की है, महिमा अपरंपार।। निर्मल मन से जग जननी के, करें विमल-गुणगान। सद्विचार श्रद्धा अर्चन से, पाएँ शुभ वरदान।। नेह…

जय शिव – रूचिका

जय शिव नीलकंठ, महादेव, भोलेनाथ, त्रिपुरारी बीच मँझधार हम पड़े बाधा हरो हमारी, तुम चन्द्रशेखर,शिव शंभु भोलेनाथ हो, तेरे ही महिमा से संकट जाये सब टारी। तुम आदि हो ,अनंत…

जय त्रिपुरारी – कुमकुम कुमारी

जय त्रिपुरारी सुन लो विनय हमारी, हे उमापति त्रिपुरारी। मैं आई शरण तुम्हारी प्रभु दूर करो अंधियारी। अँखिया मेरी है प्यासी, तेरे दर्शन की अभिलाषी। हे गिरिजापति कैलाशी, अब दर्शन…

सरस्वती वंदना-रूचिका

सरस्वती वंदना श्वेतवसना पद्यमासना तू ज्ञान का विस्तार दे, अज्ञानता का तिमिर गहरा तू सदा उबार दे। अभिमान मन में न कोई आये, पार कर लूँ मैं जीवन बाधाएं, मेरी…

दोहावली – देव कांत मिश्र

दोहावली हे माता सुरपूजिता, करूँ चरण प्रणिपात। मैं मूरख मतिमंद हूँ, भरो ज्ञान-अवदात।। अमिय ज्ञान देना मुझे, देना स्वर झंकार। हृदय-मग्न गाता रहूँ, लेकर अनुपम प्यार।। वाणी मधुरिम हो सदा,…

SHARE WITH US

Share Your Story on
info@teachersofbihar.org

Recent Post