प्रभु को अभिनंदन- एस.के.पूनम

जलहरण घनाक्षरी (प्रभु को अभिनंदन) विमल सकल काज, अवध नृप के राज, अयोध्या में बजे साज,करें हर्ष से वंदन। स्वागत में खड़े भ्राता, मधुर उल्लास पाता, वसुंधरा पर दाता,लगे तिलक…

कर दे आज करिश्मा- मीरा सिंह “मीरा”

माता कर दो एक करिश्मा मुझको आज उबारो माँ। नैया डोले बीच भंवर में मुझको पार उतारो माँ ।। कबसे तेरी द्वार खड़ी हूँ एक नज़र तो डालो माँ। मुझको…

हे महादेव – अंजली कुमारी

हे महादेव, त्रिकालदर्शी, शंभूनाथ महेश्वर । सुमिरन करे, करें ध्यान तेरा दिन रात और चारों पहर । हे अर्धचंद्र के मुकुटधारी , नाग का कंठहार धारण किया। डमरू त्रिशूल हाथों…

दोहावली – देव कांत मिश्र ‘दिव्य

करिए वंदन शंभु का, लेकर पूजन थाल। उनकी महिमा है बड़ी, उनका हृदय विशाल।। शिव के पावन नाम का, गाएँ नित गुणगान। निश्छल मन में कीजिए, शुचिमय चिंतन-भान।। शिव शिव…

वीणा को बजाइए – मनु रमण चेतना

शारदे भवानी मैया,भंवर में मेरी नैया, करि कृपा मेरी नाव,पार भी लगाईये। श्वेत वस्त्र धारिणी मां,विद्या वर दायिनी हो , सुमति को देनेवाली,कुमति नसाईये। चरणों की आस लगी,दर्शन की प्यास…

मंदाक्रांता छंद – कुमकुम कुमारी “काव्याकृति

हे वागीशा, हृदय तल से,तुझे माँ मैं बुलाऊँ। आ जाना माँ, सुन विनय को,आस तेरे लगाऊँ। है ये वांछा, चरण रज को,भाल से माँ लगाऊँ। देना माता,शुभवचन ये,गीत तेरे रचाऊँ।…