ये बेटियाँ- मधु कुमारी

ये बेटियाँ  बेटियाँ उन्मुक्त नदियों की लहरों-सी मदमस्त हवा के ठण्डे झोंकों-सी चहकती, दमकती, मदमस्त छबिली-सी छन-छन के सुरीली गीतों-सी रिश्तों के नाजुक डोर-सी परम्परा निभाती फ़रिश्ते-सी एक मजबूत किंतु…

SHARE WITH US

Share Your Story on
info@teachersofbihar.org

Recent Post