बालगीत – सुधीर कुमार

Sudhir

नाच रहा मन मोर है ।
कितनी सुन्दर भोर है ।।

तारे सारे लुप्त है ।
लोग भला क्यों सुप्त हैं ।।
सुनते कब वे शोर है ।
कितनी सुन्दर भोर हैं ।।

चिड़िया गाती गीत है ।
सबके मन में प्रीत है ।।
खुशहाली हर ओर है ।
कितनी सुन्दर भोर है ।।

भौरे भी सब मग्न है ।
करते फूलों से लग्न हैं ।।
होते ये चितचोर हैं ।
कितनी सुन्दर भोर है ।।

सुधीर कुमार , मध्य विद्यालय शीशागाछी
प्रखंड टेढ़ागाछ जिला किशनगंज बिहार

Leave a Reply

SHARE WITH US

Share Your Story on
info@teachersofbihar.org

Recent Post

%d