हमारा संविधान- मो.मंजूर आलम

Nawab

दिया है हक हमें
लड़ने का बढ़ने का
डटने का स्वप्न देखने का
बोलने का समता का
मर्ज़ी से पूजन शिक्षण करने का
निर्बाध देश घूमने का।
किसी भूभाग में बसने और
आजीविका का।
न कोई रोक टोक
न कोई भेदभाव
सभी हैं समान इसकी नज़रों में
चाहे दीन हो या साव।
व्यवस्थाएं की गई हैं कई,
ताकि सोचें सीखें ज्ञान नई नई।
क्रमानुसार अनुच्छेदों में किया है प्रावधान,
बाबा साहब ने लिखा यह संविधान;
हैं उनके हम पर कई एहसान।
जरूरत है उनके पदचिन्हों पर चलने की,
संवैधानिक दायरे में रहकर बढ़ने की।
हक हुकूक के लिए लड़ने की,
एकता सौहार्द स्थापित करने की।
साजिशों को दरकिनार करने की,
साजिशकर्ताओं को सबक सिखाने की।
संवैधानिक मूल्यों की रक्षा करने की,
तभी दुनिया हम पर गर्व करेगी।
हमारा अभिमान हमारा संविधान।
लेखक- मो.मंजूर आलम उर्फ नवाब मंजूर
प्रधानाध्यापक, उमवि भलुआ शंकरडीह
तरैया ( सारण )

Leave a Reply

SHARE WITH US

Share Your Story on
info@teachersofbihar.org

Recent Post

%d