नशा मुक्ति- अमरनाथ त्रिवेदी

Amarnath Trivedi

नशा सेवन करने से ,
कितने घर बर्बाद हुए ?
शत्रु जिसको समझा आपने ,
उसके घर आबाद हुए ।

नशा छोटी हो या बड़ी ,
दुखदायी बड़ी होती है ।
कर्ज लेकर नशा करने को ,
अभिशप्त हमे कर देती है ।

मन की शांति छिन्न – भिन्न कर ,
यह तन को पीड़ा देती है ।
समग्र रूप से हानि कर ,
यह कार्य विमुख कर देती है ।

शरीर खोखला होने से ,
ओज चला सब जाता है ।
आगे -पीछे की सोच यहीं से ,
खत्म सदा हो जाता है ।

भारत से नशा शीघ्र मिटाएँ ,
सदा -सदा हम खुश रह पाएँ।
चलें सुसंगति की नींव बनाएं,
सदाचरण कहीं छूट न जाए ।

रचयिता :-
अमरनाथ त्रिवेदी
प्रधानाध्यापक
उत्क्रमित उच्च विद्यालय बैंगरा
प्रखंड – बंदरा ( मुज़फ़्फ़रपुर )

Leave a Reply

SHARE WITH US

Share Your Story on
info@teachersofbihar.org

Recent Post

%d