Karun-पद्यपंकज

गोरैया की आत्म व्यथा-अपराजिता कुमारी

गौरैया की आत्मव्यथा मैं हूँ चुलबुली सी गौरैया स्थिर नहीं मैं रह पाती हूंँ, चहक चहक कर फुदक फुदक कर परिस्थितियों के अनुकूल ढल जाती हूँ। मैं हूँ चुलबुली सी…

किसान-सूर्यप्रकाश

किसान धरती है मेरी माता, पिता को माना आसमान, है मेरी यही परंपरा, है मेरी यही शान I हाँ मै भी हूँ एक किसान I भरता हूँ दुनियाँँ का पेट,…

SHARE WITH US

Share Your Story on
info@teachersofbihar.org

Recent Post