सहारा हरिनाम है – एस.के.पूनम

सृष्टि के पालनहार, जग के तारणहार, जगत के प्राणशक्ति,आद्यंत श्रीराम हैं। अयोध्या नगरी सजी, हिया बसें रधुवीर, करूणा की धारा बहे,गूंजा राम नाम है। तन पर अंगराग, जगत के अंतरंग,…

मनहरण घनाक्षरी – एस.के.पूनम

कृष्णाय नमः विधा:-मनहरण घनाक्षरी वक्त का पहिया घूमा,बेमिसाल पाँच साल, मंच सुशोभित लेखन के कारीगरों से । कविता कहानियों की अनवरत प्रवाह, निरंतरता अनगिनत बाजीगरों से। शब्दों की लडियाँ सजी…

बैलगाड़ी हाँकते – एस.के.पूनम

विधा:-मनहरण घनाक्षरी कड़कड़ाती ठंड है, प्रकाश की तलाश है, सूरज की प्रतीक्षा में,प्राची दिशा झाँकते। पक्षियों का कलरव, शबनम चमकती, कोहरे का पहरा है,बैठ आग सेकते। अन्नादाता खेत पर, फलियां…

प्रेम का उपहार – एस.के.पूनम

🙏ऊँ कृष्णाय नमः🙏 वार्णिक मुक्तक(वर्ण भार-13 ) प्रदत्त विषय- काजल। (प्रेम का उपहार) प्रिया जब मिली थी हुआ बेकरार, प्रीत पा प्रेयसी से किया इकरार, बिताया जाग दिवा हो या…

दीपावली – एस.के.पूनम

शीतल कार्तिक मास, आशाओं के फूल खिले, करें अब खरीदारी,कई मिले हैं संदेश। बाजारों में भीडभाड़, खरीदारों की कतारें, चकाचौंध होती आँखें,करें पालन निर्देश। सात समंदर पार, रहता है परिवार,…

विघ्नेश बुलाइए – एस.के.पूनम

🙏ऊँ कृष्णाय नमः🙏 विधा-मनहरण (विघ्नेश बुलाइए) संसार में है अंधेरा, चहुंदिशा में बखेरा, निकले हैं समाधान,दीप को जलाइए। हिया बसे मन मोरा, प्रदर्श दिखे हैं गोरा, अवसर है पावन,प्रीत को…

रूपघनाक्षरी – एस.के.पूनम

भानु खड़ा द्वार पर, घूँघट उठाती निशा, शीत का आगाज हुआ,ओढ़ ले कंबल आज। सुबह पत्तियाँ करे, तुहिन से श्रृंगार जी, सूर्य प्रभा पड़ते ही सप्तरंग करे नाज़। पक्षियों का…

विजयादशमी राज – एस.के.पूनम

🙏कृष्णाय नमः🙏 विधा:-रूपघनाक्षरी (विजयादशमी राज) दस दिन श्रमदान, चहुँओर मिला मान, सम्मान का अधिकार,पाकर करता नाज। सत्ता पाने का संघर्ष, रावण का घुला हर्ष, अस्त-व्यस्त छिन्न भाव,भूल गया मूल काज।…

मुक्तहस्त स्नान दान – एस.के.पूनम

🙏कृष्णाय नमः🙏 विधा:-रूपघनाक्षरी विषय:-(मुक्तहस्त स्नान दान) बीता है ग्रहणकाल, सुतक का अंत हुआ, सरिता के तट पर,करते हैं योगी ध्यान। डुबकी लगाते गंग, पाप कर्म विसर्जित, हृदय हों स्वच्छ और,मुक्तहस्त…

SHARE WITH US

Share Your Story on
info@teachersofbihar.org

Recent Post