कुमकुम कुमारी-पद्यपंकज

रामधारी सिंह दिनकर – कुमकुम कुमारी ‘काव्याकृति’

माँ सरस्वती के चरणों में, झुककर मैं वन्दन करूँ। मेरी लेखनी को शक्ति दो माँ, तुमसे यही अर्चन करूँ। राष्ट्रवादी कवि दिनकर जी का, मैं चरित्र चित्रण करूँ। कुछ भी…

नव निर्माण – कुमकुम कुमारी

युग है यह निर्माण का, नूतन अनुसंधान का। हम भी कुछ योगदान करें, अपना चरित्र निर्माण करें। प्रकृति ने है हमें रचाया, निर्मल काया दे सजाया। इसका हम अभिमान करें,…

कृष्ण भजन-कुमकुम कुमारी

कृष्ण भजन मेरे श्याम सुंदर प्रभु नंदलाला आ जाओ गोवर्धन गोपाला तेरा रास्ता निहारे हम बृजवाला आ जाओ गोवर्धन गोपाला मेरे श्याम सुंदर…………… जिसने कारागार में जन्म लिया और नंदगाँव…

प्रकृति माँ-कुमकुम कुमारी

प्रकृति माँ माटी के कण-कण को आओ, मिलकर हम चंदन करें। पर्यावरण के शुभ दिवस पर, माँ प्रकृति का वंदन करें। हरी-भरी ये धरा हमारी, माँ प्रकृति ने इसे सजाया…

राष्ट्रवादी कवि सोहन लाल द्विवेदी-कुमकुम कुमारी

राष्ट्रवादी कवि सोहन लाल द्विवेदी माँ सरस्वती के चरणों में, झुककर मैं वन्दन करूँ। मेरी लेखनी को शक्ति दो, माँ तुमसे यही अर्चन करूँ। राष्ट्रवादी कवि सोहन जी का, मैं…

हम धरती की संतान हैं-कुमकुम कुमारी

हम धरती की संतान हैं सृष्टि के कण-कण में देखो, बसते यहाँ भगवान हैं। धरती हमारी माता है, हम इसकी संतान हैं। कितनी प्यारी धरा हमारी, इसका हमें गुमान है।…

होली-कुमकुम कुमारी

होली फागुन का महीना आया फिजा को मनोरम बनाया साथ में रंगों का त्यौहार लाया जहां को खुशहाल बनाया। सब मिल रंग-गुलाल उड़ाया मन से गिले-शिकवे मिटाया एक-दूजे को गले…

बिहार की गौरवगाथा-कुमकुम कुमारी

बिहार की गौरवगाथा गुणगान करूँ, सम्मान करूँ नित-नित झुक मैं प्रणाम करूँ। बिहार की गौरवशाली गाथा का, सुनो, आज मैं बखान करूँ। गुणगान करूँ………………. पतित पावनी गंगा ने यहाँ, निर्मल…

प्रवेशोत्सव स्लोगन-कुमकुम कुमारी

प्रवेशोत्सव स्लोगन जब पढ़ेगी बिटिया, तब बढ़ेगी बिटिया अधिकार के प्रति सजग बनेगी बिटिया अब न अत्याचार सहेगी बिटिया जग में नाम करेगी बिटिया। सुन लो है पूज्य जनक दुलारे…

SHARE WITH US

Share Your Story on
info@teachersofbihar.org

Recent Post