चलो हम दर्शन करें – जैनेन्द्र प्रसाद रवि’

आज आएंगे अवधपुरी राम, चलो हम दर्शन करें, अलौकिक सजी है अयोध्या धाम, चलो हम दर्शन करें।। ले हाथों में पान-सुपारी, पंक्तिबद्ध खड़े नर नारी, बिना देखे ना करेंगे विश्राम,…

प्रभाती पुष्प – जैनेन्द्र प्रसाद रवि’

सनातन पर नाज रूप घनाक्षरी छंद “”””””””””””””””””” पाँच सौ वर्षों के बाद वनवास काटकर, राम रघुवर मेरे अवध में आए आज। आँगन सजाते सभी राम गीत गाते कभी, देश की…

रघुवर सरकार – जैनेन्द्र प्रसाद रवि’

जग के पालनहार रघुवर सरकार, हमारे आराध्य देव राम भगवान हैं। दीनों पे अकारण हीं करूणा हैं बरसाते, उनके सेवक भक्त वीर हनुमान हैं। लखन अनुज भ्राता जननी कौशल्या माता,…

राम रमैया – जैनेन्द्र प्रसाद रवि’

आज घर-घर में बाजे बधैया हो, अइलन राम रमैया। राजा लूटावैं अन्न-धन सोनमा, रानी लुटावैं रूपैया हो,अइलन राम रमैया।। देख मगन भेल सब नर-नारी, आरती उतारें मिल तीनों महतारी। मिल…

राजा राम – जैनेन्द्र प्रसाद रवि’

सजी है अवधपुरी नवेली दुल्हन जैसी, सिंहासन बिराजेंगे, सबके दुलारे राम। संत-भक्त-साधकों का सपना साकार हुआ, बैठे थे वे सदियों से, विश्वास की डोर थाम। भारत के नर-नारी उन पर…

प्रेम भरी वाणी- जैनेन्द्र प्रसाद रवि’

ठोस परिणाम हेतु काम आता अनुभव, बीमारों को पथ्य वास्ते, चावल पुरानी हो। जीवन में सोच कर कदम बढ़ाएं सदा, हर शुभ कार्य हेतु जोश व जवानी हो। निराशा-आलस्य नहीं…

प्रेम उपहार-जैनेन्द्र प्रसाद रवि’

मनहरण घनाक्षरी छंद सबकी बनाए भाल चौबीस का नया साल, साथियों के लिए लाए, खुशियां अपार है। आप सभी छोटे बड़े रहते हैं साथ खड़े, आपकी दुआएं हमें, दिल से…

झूठी शान – जैनेन्द्र प्रसाद रवि’

जब कोई बेसहारा पाता हो सहारा नहीं, दिखावे को महलों में रखते हैं बाँध स्वान। सोने हेतु काफी होता दो गज जमीन जब, क्या फायदा रहने को, भवन हो आलिशान?…

SHARE WITH US

Share Your Story on
info@teachersofbihar.org

Recent Post