उठो बच्चो-प्रियंका प्रिया

उठो बच्चों उठो बच्चों आजादी की क्या तुमने की तैयारी है? पदचिह्नों पर चलने की अब तुम्हारी बारी है। क्या सही मायने में यही आजादी दिवस हमारी है, ध्वजा फहराना,…

Spread the love

मेरा भारत मगर एक है-चंचला तिवारी

मेरा भारत मगर एक है रंग तो अनेक है रंगरेज़ मगर एक हैं त्यौहार तो अनेक उत्सव मगर एक हैं इमारतें अलग अलग बुनियाद मगर एक हैं राहे सबकी अलग…

Spread the love

स्वर्ग से सुंदर देश हमारा-रीना कुमारी

स्वर्ग से सुन्दर देश हमारा स्वर्ग से सुन्दर देश हमारा, जो हमें सबसे प्यारा है। जिसकी गोद में हम खेले, वह भारत देश हमारा है। स्वर्ग से सुन्दर देश——– जो…

Spread the love

गुलामी का अवसान-अर्चना गुप्ता

गुलामी का अवसान  है हिन्द-सिंध अपना हिय सनातन आजादी का यह दिव्य पर्व महान गुलामी कलुषित कालिमा का आज ही के दिन हुआ अवसान सदियों फैली पीड़ित मानवता गुलामी की…

Spread the love

आजादी की कहानी-निधि चौधरी

आजादी की कहानी  सुनो आज़ादी की लंबी कहानी गुलामी की वो दास्तां थी पुरानी। वो नंगे बदन पे थे कोड़े लगाते, वो जालिम बहुत ही थे हमको सताते भगाने फिरंगी…

Spread the love

भारत देश हमारा है-नूतन कुमारी

आज अपनी धरती को दुल्हन बनाऊँ कोशिश यही कि तेरी स्वतंत्रता बरकरार रहे, गगन के तले तिरंगा ध्वज, यूँ ही लहराते रहे, वतन के लिए जान, जरूरत पड़ने पर दे…

Spread the love

वीर सपूत-देव कांत मिश्र दिव्य

वीर सपूत  मातृ भूमि का सच्चा सेवक वीर सपूत कहलाता। पर्वत, नदियांँ व देख समन्दर कभी नहीं घबराता।। जब तक मंजिल हाथ न आये आगे ही बढ़ता जाता। शाम सबेरे…

Spread the love

टीचर्स ऑफ बिहार के पद्यपंकज

Vijay Bahdur Singh

टीचर्स ऑफ बिहार के पद्यपंकज, गद्यगुंजन और ब्लॉग टीम लीडर विजय बहादुर सिंह आपका स्वागत करता है। पद्यपंकज, गद्यगुंजन के रचना का सत्यापन श्री विजय बहादुर सिंह जी के द्वारा की जाती है।


धन्यवाद

SHARE WITH US

Recent Post