अरिल्ल छंद -सुधीर कुमार

Sudhir

अरिल्ल छंद
मात्रा – १६

अंत – १२२

आपस में मत करो लढ़ाई ।
बच्चों कर लो खूब पढ़ाई ।।
तुम अपना मत समय गँवाना ।
अच्छे बच्चे सदा कहाना ।।

गतिविधियों में नाम लिखाओ ।
खुद भी सीखो और सिखाओ ।।
शिक्षा का तुम मोल समझ लो ।
आभूषण है ज्ञान पहन लो ।।

पथ के काँटे सदा हटाना ।
पढ़ लिखकर तुम नाम कमाना ।।
अपना जीवन स्वयं सजाओ ।
तात मात का मान बढ़ाओ ।।

जीवन होगा सफल सुहाना ।
बदलेगा यह समय पुराना ।।
तुम हो जैसे चाँद सितारा ।
तुमसे है संसार हमारा ।।

सुधीर कुमार , किशनगंज , बिहार

Leave a Reply

SHARE WITH US

Share Your Story on
info@teachersofbihar.org

Recent Post

%d