एक सच्चाई- नवाब मंजूर

Nawab

सत्य से जो दूर है
वही मद में चूर है
लोभ भी भरपूर है
इसी भ्रम में मानता स्वयं को,
वही एक शूर वीर है।

रौंदता जाता सबको
जाने रब ही खुद को
न छोड़े नि:सहायों अबलाओं को
ना ही छोड़े मासूम बच्चों को!
ऐसा वह कपूत है…

मद किसी का नहीं रहता
रावण का भी नहीं रहा
रामायण इसका सबूत है!

अहंकारी व्याभिचारी अत्याचारी
लोगों के लिए ही ईश्वर!
धरा पर लेते हैं अवतार

पापियों का समूल नाश कर
वसुंधरा का करते उद्धार!
देते समाज को सुंदर संदेश
महाभारत में ईश्वर केशव के भेष।

गीता का संदेश सुनाया
जब जब पाप से कराही धरती
अवतार ले मैं आया!

अधर्म की कभी विजय नहीं होती,
ना होगी..
जब जब पृथ्वी पर
बढ़ेगा अन्याय
अत्याचार!

प्रकट हो स्वयं करूंगा
नाश पाप का,
कितना भी बलशाली क्यों न हो वह?
या पुत्र किसी बाप का!

आगे अपनी सोचो
करने का क्या इरादा है?
चलोगे धर्म के मार्ग पर
या कंस सरीखे हो जाओगे?

चुनना तुमको है…
चाहते हो जय-जयकार
या रावण की सी हार?

©✍️ नवाब मंजूर
प्रधानाध्यापक उमवि भलुआ शंकरडीह, तरैया ( सारण )

Leave a Reply

SHARE WITH US

Share Your Story on
info@teachersofbihar.org

Recent Post

%d