कड़ाके की ठंड- दीपा वर्मा

Deepa verma

कड़ाके की ठंड है ,
ठंड बड़ी प्रचंड है ।
शीतलहर जारी है ,
हर पल सब पर भारी है।
यह ठंड सबको सहना है, रजाई में ही रहना है।
गरम पकौड़े खाने हैं ,
यह समय यूं ही बिताने हैं।
चाय कॉफी सबको भाती है, जब-जब ठंड कँपकँपाती है।
आग जलाकर बैठे रहो ,
घर में ही सब डटे रहो।
प्रयास कर संभाल लो ,
यह समय यूं ही निकाल लो।
न पूजा, न पाठ हो ,
न स्नान की, कोई बात हो।
खाते मुँह, थके नहीं ,
समोसे, चाय पर लगे रहो।
दिन हो के रात हो ,
न संग हो ,न साथ हो।
मन मारकर कहना है ,
घर में ही डटे रहना है।

दीपा वर्मा
रा. उ. म. वि.
मुजफ्फरपुर

Leave a Reply

SHARE WITH US

Share Your Story on
info@teachersofbihar.org

Recent Post

%d