ठंड कटे कोट से- एस.के.पूनम

S K punam

विद्या:-मनहरण घनाक्षरी

निकली है हल्की-हल्की,
कहीं धूप-कहीं छांह,
मौसम बेदर्द बना,पवन की चोट से।

ताक-झांक कर रहा,
बारबार झरोखों से,
लालिमा दिखती नहीं,बादलों के ओट से।

बूंदाबांदी होती रही,
भरा नहीं नदी-नाला,
खेतो में हरियाली है,सींचित है मोट से।

लगती सुबह शाम,
धूंध का चादर जैसी,
शीत का लहर चली,ठंड कटे कोट से।

एस.के.पूनम(स.शि.)फुलवारी शरीफ,पटना।

Leave a Reply

SHARE WITH US

Share Your Story on
info@teachersofbihar.org

Recent Post

%d