सुहानी सुबह- जैनेन्द्र प्रसाद रवि’

Jainendra

सुहानी सुबह


बागों में बहार आई,
खिल गई अमराई,
हरे-हरे नए पत्ते, डालियों में हिलते।

भोर लिया अंगड़ाई,
सुहानी सुबह आई,
भाँति-भाँति पुष्प दल, चमन में खिलते।

दलहन तेलहन,
फसलें तैयार हुई,
किसान सेवक मिल- खलिहान छिलते।

मधुप कली से कहे,
विविध बयार बहे,
बिछड़े पुराने- प्रेमी, आपस में मिलते।

जैनेन्द्र प्रसाद रवि’
म.वि. बख्तियारपुर, पटना

Leave a Reply

SHARE WITH US

Share Your Story on
info@teachersofbihar.org

Recent Post

%d