मौसम का असर – जैनेन्द्र प्रसाद रवि’

Jainendra

रात दिन में भी ज्यादा-
पड़ता है फर्क नहीं,
ज़ालिम मौसम देखो, ढा रहा कहर है।

जैसे -जैसे दिन ढले,
चिलचिलाती लू चले,
अब तो ये सुबह भी लगे दोपहर है।

ठंडा-ठंडा जल पीयो,
एसी, कूलर में जियो,
नहीं दिखता शीतल-पेय का असर है।

ये गर्म हवा का झोंका,
चुभता है कांटे जैसा,
तपती भट्टी में सभी नगर शहर हैं।

जैनेन्द्र प्रसाद रवि’
म.वि. बख्तियारपुर पटना

Leave a Reply

SHARE WITH US

Share Your Story on
info@teachersofbihar.org

Recent Post

%d