देश के कर्णधार – जैनेन्द्र प्रसाद रवि’

Jainendra

लेखक, शिक्षक, सेना,
कर्मचारी राजनेता,
चिकित्सक,वैज्ञानिक सभी कर्णधार हैं।

राष्ट्र निर्माण खातिर
जो भी करें योगदान,
काश्तकार मजदूर, बड़े शिल्पकार हैं।

तन -मन- जतन से
परिश्रम खूब करें,
छोटा-बड़ा नहीं होता, कोई रोजगार है।

अन्न उपजाने हेतु
पसीना बहाते रोज,
सादर नमन उन्हें, मेरा बार-बार है।

जैनेन्द्र प्रसाद रवि’
म.वि. बख्तियारपुर, पटना

Leave a Reply