बेटी तो घर की आन है – एम० एस० हुसैन “कैमूरी”-पद्यपंकज

बेटी तो घर की आन है – एम० एस० हुसैन “कैमूरी”

M S Husain

बेटीयां तो घर की आन है
बाप की अनुपम पहचान है
जो समझता है बेटी को बोझ
वह तो सबसे बड़ा नादान है

क्यों करते हो बेटा और बेटी
वह भी तो तुम्हारी संतान है
बेटी का अवतरण होता है वहीं
जिस घर में ईश्वर का वरदान है

बेटों से बेटियों कम आंकते है
यह तो दिग्भ्रमित का सामान है
हमारे बेटों की तरह बेटियां भी
चढ़ती सफलता की सोपान है

बेटीयां तो दृढ़ शक्ति की मिसाल है
कामयाबी की हर जगह बखान है
अपनी अथक लगन व परिश्रम से
बेटीयां आज छू रही आसमान है

बेटियां तो है आज बेटों से भी आगे
हर क्षेत्र में भी सफलता इनके नाम है
कर्म , कृतार्थ और दृढ़ निश्चयी के बल
बेटियों के आगे खुद झुका आसमान है

एम० एस० हुसैन “कैमूरी”
उत्क्रमित उच्च माध्यमिक
विद्यालय छोटका कटरा
मोहनियां कैमूर बिहार

Leave a Reply

SHARE WITH US

Share Your Story on
info@teachersofbihar.org

Recent Post

%d bloggers like this: