महारथी कर्ण का वध-दिलीप कुमार चौधरी

Dilip choudhary

 महारथी कर्ण का वध 

कहते थे लोग जिसे सूत-पुत्र ;
वह था कुन्ती का प्रथम सुपुत्र ।
पाण्डवों का था भ्राता ज्येष्ठ ;
महा दानवीर और धनुर्धर श्रेष्ठ ।

होठों में अपने दबाकर यह राज़
बचाती रही कुन्ती अपनी लाज ।
देखती रही वह उसका अपमान
पर दे न सकी अपनी पहचान ।

उस परमवीर का हुआ यह हश्र ;
मारा गया जब था वह निरस्त्र ।
खेत आया जब रश्मि-रथी ,
भू पर पड़ी थी उसकी अर्थी ।

शोक मनाने पहुँची जब कुन्ती ,
कर्ण के शव पर सिर को धुनती ।
यह देख पाण्डव हुए अचंभित ;
बिल्कुल अवाक और स्तंभित ।

जब माँ कुंती ने उगला राज़ ,
अति क्रोधातुर हुए धर्मराज ।
देख सिरकटा कर्ण का शव
स्वयं मर्माहत हुए थे केशव ।

कर्ण की मौत का उत्तरदायी कौन ?
माता कुंती या श्रीकृष्ण का मौन ?
या फिर, कर्ण था स्वयं जिम्मेवार ;
निरस्त्र अभिमन्यु पर करके वार ।

मित्रता का वह बढ़ाकर हाथ
स्वयं हो गया अधर्मी के साथ ।
धर्म-अधर्म में जब होता युद्ध ,
परिणाम जानते सभी प्रबुद्ध ।

दिलीप कुमार चौधरी
म. वि. रजोखर, अररिया

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

टीचर्स ऑफ बिहार के पद्यपंकज

Vijay Bahdur Singh

टीचर्स ऑफ बिहार के पद्यपंकज, गद्यगुंजन और ब्लॉग टीम लीडर विजय बहादुर सिंह आपका स्वागत करता है। पद्यपंकज, गद्यगुंजन के रचना का सत्यापन श्री विजय बहादुर सिंह जी के द्वारा की जाती है।


धन्यवाद

SHARE WITH US

Recent Post