संस्कार-अवनीश कुमार

संस्कार संस्कारों की छाँव में बड़े-बुजुर्गों की पाँव में मिल रहे सदाचरण अब भी गाँव में। संस्कारों की थाती अब भी बसती है गाँव में, ममत्व, प्रेम, त्याग, स्नेह, अर्पण…

Spread the love

मेरा नाम बिहार हुआ-एम एस हुसैन

मेरा नाम बिहार हुआ  1912 में मैं पैदा हुई जन्म स्थल बंगाल हुआ लोगों से मैं मिली जुली इसी तरह मेरा प्रचार हुआ मेरे पास बहुत बौद्ध भिक्षु रहते हाँ…

Spread the love

जनसंख्या-अश्मजा प्रियदर्शिनी

जनसंख्या एक अरब सैतिश करोड़ की जनसंख्या वाला है हमारा नेशन 17.64 के दर से बढ रहा पोपूलेशन दिन दूनी, रात चौगुनी विकट हो रहा सिचुएशन वर्तमान दृश्य ऐसा है…

Spread the love

वृक्ष है संजीवनी-अश्मजा प्रियदर्शिनी

वृक्ष है संजीवनी वृक्ष है संजीवनी हमारी वसुंधरा की हैं शान धरती को स्वर्ग बनाते, जैसे ईश्वर का वरदान प्राणवायु देते भरते हर जीव-जन्तु में जान वृक्षों की शाखाओं पर…

Spread the love

आभासी दुनिया की मृगतृष्णा-विनय कुमार

आभासी दुनिया की मृगतृष्णा  सैकड़ों-हज़ारों दोस्त मिलें फ़िर भी ख़ुद को अपनापन की गलियों में अकेला ही पाया ये इंटरनेट की दुनिया हमें किधर लिये जा रही? ये तो अपनो…

Spread the love

देशी मिट्टी के सुगंध-भवानंद सिंह

देशी मिट्टी के सुगंध देश हमारा हमें है प्यारा इसकी खुश्बू को पहचाने, इस मिट्टी में पले बढे हम आज खड़े हैं सीना ताने । कसम हमें है इस मिट्टी…

Spread the love

आत्मविश्वास-संयुक्ता कुमारी

आत्मविश्वास आओ बच्चों तुम्हें सुनाए कहानी दिव्यांग नृत्यांगना की। जो अपने आत्मबल से अपने सपने को साकार की। वह थी दिव्यांग नृत्यांगना नाम था सुधा चंदन। बचपन से करती थी…

Spread the love

टीचर्स ऑफ बिहार के पद्यपंकज

Vijay Bahdur Singh

टीचर्स ऑफ बिहार के पद्यपंकज, गद्यगुंजन और ब्लॉग टीम लीडर विजय बहादुर सिंह आपका स्वागत करता है। पद्यपंकज, गद्यगुंजन के रचना का सत्यापन श्री विजय बहादुर सिंह जी के द्वारा की जाती है।


धन्यवाद

SHARE WITH US

Recent Post