सम्राट अशोक का मोह भंग-दिलीप कुमार चौधरी

Dilip choudhary

सम्राट अशोक का मोह भंग

अस्ताचल को गया था दिवाकर ;
था विराजमान नभ में निशाकर ।
झिलमिला रहे थे सितारे ;
दीपों की लगी थी कतारें ।

फहरा रही थी मगध-ध्वजा ;
सम्राट-शिविर था सजा-धजा ।
सैनिक थे अपने शिविर में ;
मानो शेर हों अपने विविर में ।

सोच में थे सम्राट व्यथित ;
चार साल हो गए व्यतीत ।
कलिंग पर न हो सकी विजय;
क्या कलिंग है सचमुच दुर्जय ?

सहस्र सैनिकों ने दी है क़ुर्बानी ,
फिर भी अधूरी विजय-कहानी ।
तभी गुप्तचर ने लाया संदेश ;
स्वर्ग सिधार गए कलिंग नरेश ।

भाँपकर अपनी विजय आसन्न
हो गए सम्राट अतीव प्रसन्न ।
सकुचाकर बोला वह राज़दार ;
अब भी बंद है दुर्ग का द्वार ।

बंद द्वार का समझें आशय
बरकरार है अब भी संशय ।
सम्राट हो गए अति उद्वेलित ,
पर न हुए संकल्प से विचलित ।

कल या तो खुलेगा दुर्ग-द्वार
या लौटेंगे हम मानकर हार ।
प्रदर्शन करूँगा अपने शौर्य का ;
आखिर पौत्र हूँ चन्द्रगुप्त मौर्य का

पुनि सेना रण-क्षेत्र में आई ;
सम्राट ने प्रतिज्ञा दुहराई ।
जब सम्राट ने दिखाई हनक ,
ध्वनित हुई खड्गों की खनक ।

दुर्ग के अंदर पड़ गई भनक ;
चढ़ गई क़ुर्बानी की सनक ।
फिर खुल गया दुर्ग का द्वार ;
दिखी एक रमणी अश्व-सवार ।

चेहरे से टपकता था ओज ;
पीछे थी स्त्रियों की फ़ौज ।
सेना को ललकारकर बोली ;
आज खेलनी है खून की होली ।

जन्मभूमि: स्वर्गादपि गरीयसी;
आओ बहनो! उठा लो असि ।
बोले सम्राट अशोक अकस्मात् ;
प्रकट हुई है जगदम्बा साक्षात् ।

आई है करने कलिंग की रक्षा ,
जिसकी नहीं थी हमें अपेक्षा।
स्तब्ध सम्राट ने तोड़ा मौन :
पूछा उन्होंने, आप हैं कौन ?

मैं हूँ राजकुमारी पद्मा ;
अशोक ने दिया है सदमा ।
हत्यारों का है वह सरदार ;
आई हूँ मैं करने ख़बरदार ।

किया है धरा को रक्त-रंजित;
देखो मेरे हैं नयन अनुरंजित ।
हम आए देने प्राणों की आहुति;
होगी आज युद्ध की पूर्णाहुति ।

कलिंग-विजय नहीं आसान ;
हम करेंगे युद्ध घमासान ।
कहाँ छुपा है हत्यारा अशोक ,
जिसने दिया है पितृ-शोक ?

मैं ही हूँ आपका अपराधी,
जिसके हाथों मरे निरपराधी ।
मैं न करूंगा स्त्रियों पर वार ;
फेंकता हूँ मैं अपनी तलवार ।

मेरे सैनिक भी न करेंगें प्रहार ;
नहीं होगा अब नरसंहार ।
नारियों पर न उठेगा शस्त्रास्त्र ;
आज्ञा नहीं देता है शास्त्र ।

तूने की है शास्त्र की अवज्ञा ;
क्या देता शास्त्र हत्या की आज्ञा ?
लूंगी पितृवध का प्रतिशोध ;
जितना चाहो करो प्रतिरोध ।

तेरे रक्त से करूँगी स्नान ,
बनेगा युद्ध-क्षेत्र श्मशान ।
आपके समक्ष हूँ नतमस्तक;
छिन्न कर दें मेरा मस्तक ।

कर लिया है मैंने अनुभव;
विजय-तृष्णा का अंत पराभव ।
हो गया है मेरा मोह-भंग ;
फिर कभी न लड़ूंगा जंग ।

मैं न करती निहत्थे पर वार
चाहे हो वह मेरा कसूरवार ।
तो ठीक है जाइए महाराज ;
करती हूँ माफ़ आपको आज ।

निभा सकें आप अपनी प्रतिज्ञा ;
दें परमेश्वर आपको सत् प्रज्ञा ।
गए सम्राट बुद्ध की शरण में ;
बसाया अहिंसा अंतःकरण में ।

दिलीप कुमार चौधरी
मध्य विद्यालय रजोखर
अररिया 

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

टीचर्स ऑफ बिहार के पद्यपंकज

Vijay Bahdur Singh

टीचर्स ऑफ बिहार के पद्यपंकज, गद्यगुंजन और ब्लॉग टीम लीडर विजय बहादुर सिंह आपका स्वागत करता है। पद्यपंकज, गद्यगुंजन के रचना का सत्यापन श्री विजय बहादुर सिंह जी के द्वारा की जाती है।


धन्यवाद

SHARE WITH US

Recent Post