नर ही नारायण-अर्चना गुप्ता

Archana

नर ही नारायण

छोड़ पुष्पों की सेज सुहानी
जो काँटों का बिस्तर अपनाए
कर्मपथ पर सतत चलकर जो
सबका पथ प्रदर्शक बन जाए
परहित समर्पित वह नर ही
जीवन में नारायण बन पाए।

संघर्षों की अग्नि में तपकर
जो निशदिन कुंदन बन जाए
तप, त्याग, प्रेम, दान व सेवा
परोपकार का हर पाठ पढ़ाए
परहित समर्पित वह नर ही
जीवन में नारायण बन पाए।

करे स्वीकार चुनौती जो हँसकर
हर लक्ष्य भेदकर दिखलाए
सजल भाव ले उर में अपने
आशा की नवज्योत बन जाए
परहित समर्पित वह नर ही
जीवन में नारायण बन पाए।

रग रग में नव स्वर सृजन भर
परिवर्तन की नयी राह दिखाए
आत्मचेतना को जागृत करके
जो सिद्धार्थ से बुद्ध बन जाए
सर्वस्व समर्पित वह नर ही
जीवन में नारायण बन पाए।

अर्चना गुप्ता
अररिया बिहार

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

टीचर्स ऑफ बिहार के पद्यपंकज

Vijay Bahdur Singh

टीचर्स ऑफ बिहार के पद्यपंकज, गद्यगुंजन और ब्लॉग टीम लीडर विजय बहादुर सिंह आपका स्वागत करता है। पद्यपंकज, गद्यगुंजन के रचना का सत्यापन श्री विजय बहादुर सिंह जी के द्वारा की जाती है।


धन्यवाद

SHARE WITH US

Recent Post